झील की उत्‍पत्ति

सागर झील (लाखा बंजारा झील)
 

sagar_lake_dhn_2.jpg

आधिकारिक मत: झील के संबंध में डॉ. हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय के जियॉलाजिस्ट स्वर्गीय डॉ. डब्लू. डी. वेस्ट का मत था कि जब उपरिस्थ ट्रप के हट जाने के कारण विंध्य दृश्यांश (आउट क्रॉप) जो अंशत: झील को घेरे हुए हैं, अनावृत्त हो गए, तब इस झील का प्रादुर्भाव हुआ।

विद्वानों के मतानुसार ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि अधिक प्रतिरोधी विंध्य क्वार्टजाइट दक्षिण से उत्तर की ओर के जलप्रवाह पर बांध का काम करता है। बाद में पश्चिम की ओर का जलप्रवाह रोकने के लिए एक छोटे से बांध का निर्माण भी किया गया।

वर्तमान स्थिति: पूर्व में इस झील का क्षेत्रफल कितना था इसके बारे में भी कोई विश्वसनीय जानकारी मौजूद नहीं है। कुछ अभिलेखों में एक समय इसे करीब 600 हैक्‍टेयर में फैला बताया गया है। लेकिन उपलब्‍ध सरकारी अभिलेखों में करीब चार दशक पूर्व इसे लगभग 1 वर्गमील क्षेत्र में फैला बताया गया है।

वर्तमान में शहर के विस्तार और नगरवासियों में अपनी विरासत को सहेजने के प्रति चेतना की कमी के चलते झील के चारों ओर भीषण प्रदूषण तथा अतिक्रमण का बोलबाला है, जिसके चलते यह ऐतिहासिक झील तिल-तिल कर मर रही है।


आगे पढ़ें

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*